Milk of Magnesia and Liquid Paraffin Suspension Uses in Hindi

0

यह डॉक्टरों द्वारा निर्देशित दवा है जो कि मुख्य तौर पर पेट से जुड़े समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा यह कुछ अन्य बीमारियों में भी इलाज हेतु बहुत ही असरदार दवा माना जाता है। यह दोनों दवा साथ में लेने पर ही ये अपना असर दिखाती हैं, इसलिए डॉक्टर के सलाह अनुसार इस दवा का सेवन नियमित समय पर करने से ऐसे लक्षणों से जल्दी छुटकारा पाया जा सकता है।

Milk of magnesia and liquid paraffin के उपयोग (Milk of magnesia and liquid paraffin uses in Hindi) –

इसका इस्तेमाल विशेष रूप से पेट में होने वाले कब्ज और हर्निया की समस्याओं के इलाज हेतु किया जाता है। इस दवा के अन्य प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं :-

  1. यह दवा किसी गंभीर समस्या के लिए सेवन नहीं की जाती बल्कि इस दवा का सेवन डॉक्टरों के आदेशानुसार मलबन्ध जैसी स्थिति को ठीक करने के लिए किया जाता है। जानकारी के लिए बता दें यह डॉक्टरों की पर्ची के अनुसार दी जाने वाली दवा है।
  2. इसके सेवन से परासरण के जरिए पानी आंत तक पहुंचाया जाता है जिससे मल मुलायम हो जाता है और आसानी से मलोत्सर्जन हो जाता है। इन लक्षणों से राहत दिलाने में बहुत ही फायदेमंद और लाभकारी दवा माना जाता है। इस दवा की खुराक पूर्ण रूप से मरीज की उम्र, लिंग तथा अन्य कारकों पर निर्भर करती है।
  3. वैसे इस दवा से कोई गंभीर साइट इफेक्ट्स देखने को नहीं मिलते परंतु कभी-कभी इस दवा के गलत सेवन के कारण पेट दर्द या दस्त जैसी दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि डॉक्टर मरीज की शारीरिक स्थिति और उचित रोग देखकर ही इन दवाओं का सेवन करने की अनुमति देते हैं इसलिए चिकित्सक से बिना पूछे इस दवा का सेवन करें।
  4. मलाशय की दर्दनाक स्थितियां, अपच, गुदार तथा हृद्दाह जैसी सभी समस्याओं को दूर करने एवं इनसे बचाव हेतु इस दवा का उपयोग किया जाता है। डॉक्टरों द्वारा भी यह दवा ऐसी स्थितियों में बहुत ही लाभकारी मानी जाती है। यह दवा सेवन करने के 6 से 8 घंटे के पश्चात अपना कार्य करती है। ध्यान रहे डॉक्टर मरीज की पूरी तरह से जांच करने के पश्चात किसी भी दवा को लेने की सलाह देते हैं।
  5. किसी भी कारणवश पेट में होने वाले कब्ज की स्थिति प्रासंगिक हो या अस्थाई इनसे राहत पाने के लिए इस दवा को लिया जाता है। गर्भवती तथा स्तनपान कराने वाली महिलाएं इस दवा से दूर रहें। यह उनके स्वास्थ्य के लिए खतरा उत्पन्न कर सकता है। अधिक आवश्यकता होने पर अपने डॉक्टर से जांच परीक्षण करवाकर उनके आदेशानुसार ही इस दवा की खुराक ले सकते हैं।
  6. चिकित्सकों का मानना है की पेट की खराबी या पेट दर्द से के बचाव हेतु है यह दवा बहुत ही फायदेमंद होती है। इस दवा की खुराक 1 सप्ताह तक ही लेनी चाहिए। अन्यथा आपको इसकी आदत बन सकती है। डॉक्टर से परामर्श लेकर इस दवा को नियमित और उचित समय पर सेवन करें, तभी यह आपके लिए लाभदायक रहेगा।
  7. इन दवाओं के सेवन के साथ-साथ आपको आंत की क्रियाशीलता को स्वस्थ रखने के लिए स्वस्थ आहार को भी ग्रहण करना आवश्यक है जिससे कि आपके शरीर में फाइबर युक्त भोजन जाए। पहली दवा लेने के 2 घंटे के पश्चात दूसरी दवा लें या फिर अपने डॉक्टर से पूछ कर इन दवाओं की खुराक लें। अपने पहले ली जाने वाली दवा की संपूर्ण जानकारी चिकित्सक को अवश्य दें क्योंकि यह दवा कुछ अन्य दवाओं के साथ गलत रिएक्शन देती है इससे आपकी तबीयत बिगड़ भी सकती है।
  8. किडनी या ह्रदय रोग से पीड़ित व्यक्ति इन दवाओं का सेवन करने से बचें। यह दवा अधिक संवेदनशील होने पर नहीं ली जानी चाहिए क्योंकि इस दवा में ऐसे तत्वों की मात्रा है जो अतिसंवेदनशीलता के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.